लोग नाम से परेशान हैं, इस गांव का नाम बोलने में आती है शर्म, फेसबुक पर लिखा तो ब्लॉक हो जाएंगे

 
लोग नाम से परेशान हैं, इस गांव का नाम बोलने में आती है शर्म, फेसबुक पर लिखा तो ब्लॉक हो जाएंगे

यहां रहने वाले ग्रामीणों का मानना है कि गांव खुशहाल और शांत है, मगर इस नाम के कारण लोगों को बहुत परेशानी होती है.इस गांव के लोगों का मानना है कि हम चाहकर भी अपने गांव का नाम सोशल मीडिया पर नहीं लिख सकते हैं. कहा जाता है कि कोई नाम इतिहास से जुड़ा हुआ होता है.

किसी भी इंसान की पहचान उसका पुश्तैनी गांव होता है. गांव हमारी ज़िंदगी की कहानी होती है. गांव के बिना हमारी पहचान ही नहीं. अमूमन सोशल मीडिया पर बड़े ही शान से हम अपने गांव का नाम लेते हैं, मगर एक गांव का ऐसा नाम है, जिसे हम बोल नहीं सकते हैं और ना ही लिख सकते हैं. अगर सोशल मीडिया पर लिखने की कोशिश भी की तो फेसबुक हमें ब्लॉक कर देगा. जी हां, ये सच है. दरअसल, दुनिया में ऐसा गांव है, जिसका नाम हम ना तो बोल सकते हैं और ना ही लिख भी सकते हैं. इस गांव के रहने वाले रहवासी परेशान है. वो शर्म से कभी नहीं बोल सकते हैं.

Daily Star की रिपोर्ट के अनुसार, इस गांव का नाम Fucke गांव है. आपकी जानकारी के लिए बता दूं कि ये गांव स्वीडन में स्थित है. दरअसल, Fucke गांव के लोग अपने गांव के नाम से परेशान है. इसे वो फेसबुक पर लिख नहीं सकते हैं. सोशल मीडिया सेंसरशिप में ये नाम अभद्र भाषा के तौर पर देखा जाता है. इस गांव का नाम कहीं भी लिखा नहीं जा सकता है, मगर यग गांव स्वीडन में स्थित है.

इस गांव के रहने वाले ग्रामीण अपने गांव के नाम को बदलना चाहते हैं. इसके लिए ग्रामीणों ने याचिका भी डाली है. स्वीडन के Cultural Environment Act के तहत ही किसी गांव का नाम बदला जा सकता है. संस्कृति विभाग सभी तथ्यों को ध्यान में रखकर ही इस गांव का नाम बदलेगा. यहां के ग्रामीण कई सालों से नाम बदलने की कोशिश में लगे हुए हैं.

यहां रहने वाले ग्रामीणों का मानना है कि गांव खुशहाल और शांत है, मगर इस नाम के कारण लोगों को बहुत परेशानी होती है.इस गांव के लोगों का मानना है कि हम चाहकर भी अपने गांव का नाम सोशल मीडिया पर नहीं लिख सकते हैं. कहा जाता है कि कोई नाम इतिहास से जुड़ा हुआ होता है, मगर कई बार लोगों को परेशानी हो जाती है. ग्रामवासी लगातार गांव बदलने की मांग करते हैं.